छत्तीसगढ़

वक़्फ़ बोर्ड, उर्दू अकादमी, मदरसा बोर्ड का लेट गठन कर कांग्रेस ने मुस्लिम समाज का सिर्फ शोषण किया है उन्हें कोई लाभ नहीं पहुंचाया

(शशि कोन्हेर) : कांग्रेस ने मुस्लिम समाज का सिर्फ शोषण किया है उन्हें कोई लाभ नहीं पहुंचाया। यह बात आज अल्पसंख्यक मोर्चा बिलासपुर के जिला अध्यक्ष सैयद मकबूल अली ने कही। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार आए 4 साल हो गया है । 4 साल के बाद मुस्लिम समाज से संबंधित आयोगों एवं मंडल का गठन करना इस बात को साबित करता है कि मुस्लिम समाज कांग्रेस के लिए केवल वोट बैंक बनकर रह गया है। कांग्रेस को मुस्लिम समाज के विकास और उन्नति से कोई लेना देना नहीं है।

Advertisement


विगत कुछ दिनों पहले बिलासपुर से वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष का चयन हुआ है बिलासपुर सहित पूरे छत्तीसगढ़ में अरबों रुपए की संपत्तियां वक़्फ़ बोर्ड में दर्ज हैं। जो कई कब्जा धारियों द्वारा कब्जे में है जिनका लाभ मुस्लिम समाज को नहीं मिल पा रहा है। इतने देर बाद वक़्फ़ बोर्ड का अध्यक्ष बनाना और उनके द्वारा मुस्लिम समाज के विकास और उत्थान के लिए कोई कार्य ना करना।

Advertisement

इससे यह लगता है कि कांग्रेस की मंशा ही नहीं है कि मुस्लिम समाज का विकास और उत्थान हो। क्यों की वक़्फ़ बोर्ड को काम करने का समय ही नही मिला। वर्तमान में अरबों रुपये की सम्पत्ति होते हुए मुस्लिम समाज के लोगों का विकास नही हो रहा है

Advertisement

भाजपा नेता ने कहा कि 4 साल के पश्चात मदरसा बोर्ड व उर्दू अकादमी का गठन करना यह साबित करता है कि मुस्लिम समाज के उत्थान से कांग्रेस को कोई लेना देना नहीं है। आज छत्तीसगढ़ के सभी मदरसों की हालत बद से बदतर हैं ना उन्हें कोई शासकीय अनुदान मिल पा रहा है और ंना मदरसे में पढ़ने वाले बच्चों का कोई विकास हो पा रहा है और ना ही शासन के पास इसके लिए कोई फंड है। मदरसों को शासन से मिलने वाले अनुदान लम्बित है पूरे प्रदेश के मुसलमान इस बात से आहत है।


छत्तीसगढ़ की कई स्कूलों में उर्दू भाषा की शिक्षा दी जाती है। इस कार्य के लिए उर्दू अकादमी कार्य करती है। उर्दू अकादमी का गठन इतना लेट होना, उर्दू शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए बहुत ही कष्टदायक है। अभी तक ना तो उर्दू शिक्षा के बढ़ावा के लिए उर्दू शिक्षकों की भर्ती के लिए कोई विज्ञापन जारी हुआ है ना ही शासन के द्वारा कोई पहल की जा रही है।

इतन विलम्ब से उर्दू अकादमी का गठन करना सरकार की मंशा को साफ-साफ दर्शाता है कि उर्दू शिक्षा के प्रचार प्रसार एवं उत्थान के लिए सरकार का इरादा नही है आज चार साल हो गये उर्दू भाषा के लिए सरकार ने कोई ना वर्कशॉप किया है ना कोई सम्मेलन किया है

सैयद मकबूल  ने कहा कि मैं इस बात से बहुत आहत हूं कि कांग्रेस सरकार के 4 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात भी मुस्लिम समाज के लिए कांग्रेस ने  कोई कार्य नहीं किया है ना तो आज तक कांग्रेस ने मुस्लिम समाज के शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के लिए कोई पहल की है। केवल वोट बैंक समझ के वोट लेते है। उसके बाद कोंग्रेस का कोई लेना देना मुस्लिम समाज से नही रहता ये ही कोंग्रेस की नीति रही है

भारतीय जनता पार्टी की सरकार के समय वक़्फ़ बोर्ड के तहत सभी जिलों में कार्य हुए हैं , मदरसा बोर्ड के तहत हर मदरसों को अनुदान राशि प्रदान की जाती रही है तथा उर्दू अकादमी के तहत हर जिलों में उर्दू मुशायरा तथा वर्कशॉप के कार्य किए जाते हैं भारतीय जनता पार्टी के शासन काल में हज कमेटी क भाजपा के द्वारा हज हाउस के लिए भूमि अलोट कराना व हज हाउस बनाने के लिए करोड़ों रुपए का अलॉटमेंट शासन से कराना जाना इस बात को दर्शाता है कि भारतीय जनता पार्टी मुसलमानों के विकास और उनके उत्थान के लिए हमेशा मुस्लिम समाज के साथ रही है सैय्यद मक़बूल अली ने आगे कहाँ की मुस्लिम समाज अब जागरुक हो चुका है तथा अपने विकास और समाज को आगे बढ़ाने के नजरियों को भलीभांति जानने लग गया है आने वाले 2023 के चुनाव में मुस्लिम समाज कांग्रेस को सबक सिखाएगा तथा अपना पूर्ण सहयोग व साथ भारतीय जनता पार्टी को देगा छत्तीसगढ़ का मुस्लिम समाज भारतीय जनता पार्टी के 15 साल के कार्यकाल को देख चुका है तथा सभी मुस्लिम समाज इस बात से आश्वस्त रहा है कि इन 15 सालों में भारतीय जनता पार्टी ने मुस्लिम समाज के विकास एवं उत्थान के लिए बहुत कार्य किया है 2023 के चुनाव में अब मुस्लिम समाज कोंग्रेस को सबक़ सिखाएगा।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button