बहन को आपत्ति जनक स्थिति में देख भाई ने युवक को उतारा मौत के घाट

30

बिलासपुर । अंधे कत्ल की गुत्थी को महज 24 घंटे के भीतर सुलझा कर मस्तूरी पुलिस ने एक बार फिर अपनी कार्यकुशलता का परिचय दिया है। अपनी बहन के साथ आपत्तिजनक स्थिति में युवक को देख लिए जाने के बाद प्रतिशोध की आग में जल रहे युवती के भाई ने हीं हत्या जैसे जघन्य वारदात को अंजाम दिया था। अवैध संबंध के शक पर दो व्यक्तियों ने मिलकर योजनाबद्ध तरीके से हत्या की घटना को अंजाम दिया था। इस मामले में पुलिस ने 19 साल के आरोपी को उसके एक नाबालिक साथी के साथ गिरफ्तार कर लिया है । 7 फरवरी को देव प्रसाद सूर्यवंशी की लाश गांव के एक सूने मकान में मिली थी। मृतक के सर में गंभीर चोट थी । हत्या के इस मामले में पुलिस ने टीम बनाकर जांच शुरू की। आसपास के लोगों से पूछताछ में खुलासा हुआ कि हत्या वाले दिन देव प्रसाद सूरज भवानी के साथ देखा गया था। इसके साथ यह भी पता चला कि मृतक देवप्रसाद 1 महीने पहले कौशल भवानी के घर में आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ा गया था। वही हत्या वाले दिन मृतक को कौशल भवानी के पुत्र सूरज भवानी और उसके एक मित्र के साथ घूमते देखा गया था। यह भी पता चला कि इन सब ने जयराम नगर स्थित एक शराब भट्टी से शराब भी खरीदा था और सब ने मिलकर शराब पिया था ।पूछताछ में यह भी ज्ञात हुआ कि इन लोगों ने रात करीब 8:00 बजे किसान परसदा में मौजूद रामनाथ किराना दुकान से ब्रेड खरीदा था चूंकि मृतक जिन लोगों के साथ घूमता पाया गया था उनसे उसका पुराना विवाद था इसलिए पुलिस का स्वाभाविक शक उन्हीं पर गया। इसलिए पुलिस ने सूरज भवानी तथा उसके नाबालिग साथी को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। शुरू में तो सूरज कुमार भवानी पुलिस को गुमराह करता रहा लेकिन फिर उसने मान लिया कि उसने ही अपने मित्र के साथ मिलकर देव प्रसाद को मौत के घाट उतारा था। उसने बताया कि देवप्रसाद का उसकी बहन के साथ अवैध संबंध था। 1 महीने पहले मृतक उसके घर निर्वस्त्र हालत में पकड़ा गया था। अपनी बहन के साथ मृतक को आपत्तिजनक स्थिति में देख कर उसका खून खौल उठा था और तब से वह देव प्रसाद की हत्या की योजना बना रहा था ।इसके लिए उसने अपने नाबालिक मित्र को भी साथी बना लिया ।दोनों ने देव प्रसाद से दोस्ती गाँठि और उसे शराब पिलाने अपने साथ लेकर गए। पहले तो इन लोगों ने जमकर देव प्रसाद को शराब पिलाया फिर गांव के बाहर रमेश केशरवानी के मकान पर उसे छोड़ा। क्योंकि देव प्रसाद पिछले 1 महीने से रमेश केसरवानी के ही सूने मकान में सो रहा था। इस सुने पन का फायदा उठाकर सूरज और उसके दोस्त ने देव प्रसाद को पहले जमीन पर पटक दिया फिर पास ही मौजूद ईट से उसका सर कुचल कर उसकी जान ले ली। घटना को अंजाम देने के बाद दोनों फरार हो गए। अपनी बहन के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देव प्रसाद को देख लेने से आगबबूला हो चुके सूरज ने हत्या जैसे जघन्य वारदात को अंजाम दिया लेकिन प्रतिशोध की आग में जल रहा सूरज अब कानून का मुजरिम बन चुका है। यहां तक कि उसका साथ देने वाला नाबालिग भी हत्या का आरोपी है। मस्तूरी पुलिस दोनों को गिरफ्तार कर विधिवत कानूनी कार्रवाई कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here