आरक्षण बढ़ाने के बाद आक्रोशित युवाओं ने किया विधायक निवास का घेराव

560

बिलासपुर। सीएम भूपेश बघेल के द्बारा ओबीसी समुदाय के लिए आरक्षण में बढ़ोतरी के बाद नाराज सामान्य वर्ग के युवाओं समेत लोगों की भारी भीड़ ने विधायक शैलेष पांडे के निवास पहुंचकर घेराव कर दिया और आरक्षण नीति वापस लेने की मांग करते हुए नारेबाजी की और जमकर हंगामा किया। सैकड़ों की संख्या में मौजूद भीड़ाको देखते हुए तत्काल सिविल लाईन पुलिस को सूचना दी गई जिसके बाद पुलिस की मौजूदगी में विधायक लोगों मिले। यह वाक्या रविवार देर रात का है। शहर के सभी युवकों ने पहले कंपनी गार्डन में एकत्रित होकर इस विषय पर गहन चर्चा की तथा अन्य साथियों को बुलाकर वहां एकत्र हुए जिसके बाद सभी कंपनी गार्डन से निकलकर नारे लगाते हुए हुए रैली की शक्ल में नेहरू चौक होते हुए, वेयर हॉउस रोड स्थित विधायक निवास पहुंचे और जमकर नारेबाजी की। जब लोग वहां पहुंचे तो विधायक मौजूद नहीं थे और किसी कार्यक्रम में शरीक होने गए थे । लोगों ने जब विधायक को बुलाने की मांग की तो विधायक को सूचना दी गई जिसके कुछ देर बाद विधायक पहुंचे। जैसे ही विधायक पहुंचे लोगांे ने फिर एक बार नारेबाजी शुरू कर दी जिसके बाद विधायक ने उन्हें शांत कराया। गौरतलब है कि राज्य सरकार द्बारा 72% आरक्षण लागू करने घोषण किया गया है, जिसके बाद सामान्य वर्ग के लोगों ने खूब आक्रोश है। लोगों का कहना है कि इसका प्रभाव ना सिर्फ सरकारी नौकरियों पर पड़ेगा बल्कि कॉलेजों में प्रवेश और प्रमोशन पर भी गहरा प्रभाव डालेगा जो हमारे आने वाली पीढ़ी के लिए नुकसानदेह होगा आंदोलन वृहद रूप ले रहा है समाज के प्रतिष्ठित और बुद्धिजीवी लोग भी समर्थन में आ रहे हैं। आरक्षण विरोधी आग शहर समेत पूरे प्रदेश में सुलगने लगी है। युवाओं का गुस्सा इस बात को लेकर था कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राजनीतिक लाभ की खातिर सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का उल्लंघन कर रहे हैं। 15 अगस्त को मुख्यमंत्री ने आरक्षण का कार्ड खेला है। ओबीसी से लेकर अनुसूचित जाति व सामान्य वर्ग के लिए जिस तरह आरक्षण की घोषणा की उसके चलते छत्तीसगढ़ में आरक्षण का आंकड़ा 72 फीसदी पहुंच जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here