वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए एटीआर में ‘ऑपरेशन मानसून’

227

लोकस्वर मीडिया नेटवर्क
बिलासपुर। बारिश के मद्देनजर अचानकमार टाइगर रिजर्व सैलानियों के लिए बंद कर दिया गया है, लेकिन वन विभाग के अफसर और कर्मचारी दिन-रात यहां गश्त करेंगे। मानसून के दौरान जंगल में शिकारी सक्रिय न हो सकें।
मानसून सक्रिय होने के साथ ही जंगल क्षेत्र में अवैध घुसपैठ की घटनाएं बढ़ जाती हैं। इसका फायदा उठाते हुए शिकारी भी आसानी से सक्रिय हो जाते हैं। वन और वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर अधिकारियों ने मंथन करने के बाद अचानकमार टाइगर रिजर्व में तगड़ी सîचग की योजना बनाई गई है। मैदानी अमले से लेकर डिप्टी रेंजर तक एटीआर में लगातार गश्त करेंगे। इस दौरान बार्डर एरिया में पैनी नजर रखी जाएगी। गौरतलब है कि अचानकमार टाइगर रिजर्व 3० जून को सैलानियों के लिए बंद कर दिया गया है। बारिश का मौसम वन्यजीवों के ब्रीडिंग काल भी माना जाता है। इधर बारिश में जंगल के अंदर की सड़कें कट जाती हैं। कई नाले-नालियों में पानी आ जाता है। इस कारण सैलानियों के भ्रमण पर चार माह के लिए रोक लगा दी जाती है। ठंड का मौसम शुरू होते ही 1 नवबंर को अचानकमार टाइगर रिजर्व फिर सैलानियों के लिए खोला जाएगा। लेकिन रिजर्व के अफसरों को इससे मुक्ति नहीं मिलेगी। इस दौरान एटीआर के अफसर व कर्मचारी गश्ती करेंगे। दिन में तो गश्ती होती अब वे रात में भी करेंगे। इसके लिए टीम गठित की गई है। गश्त के लिए एसटीपीएफ स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स के जवान पूरी तरह से तैयार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here