देश

सुप्रीम कोर्ट पहुंचे विनेश फोगाट समेत 8 पहलवान, खेल मंत्रालय ने WFI के चुनाव पर लगाई रोक

Advertisement

(शशि कोन्हेर) : विनेश फोगाट और सात अन्य पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्राथमिकी (FIR) दर्ज करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। खबर है कि खेल मंत्रालय ने भारतीय कुश्ती संघ के चुनाव पर रोक लगा दी है। भारतीय कुश्ती संघ के चुनाव 7 मई को होने थे।

Advertisement

इस बीच, भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) की कार्यकारी समिति के चुनाव कराने के लिए एक तदर्थ समिति का गठन करने का फैसला किया है। तदर्थ समिति अपने गठन के 45 दिन के भीतर चुनाव संपन्न कराएगी और और WFI के दिन-प्रतिदिन के मामलों का प्रबंधन करेगी। वहीं, दिल्ली पुलिस ने निगरानी समिति की स्थिति के संबंध में खेल मंत्रालय से रिपोर्ट मांगी है।

Advertisement

डब्ल्यूएफआई (Wrestling Federation Of India) प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह पर लगे आरोपों को लेकर पहलवानों से चर्चा के बाद खेल मंत्रालय ने इस साल जनवरी में 6 सदस्यीय निगरानी समिति का गठन किया था। मुक्केबाज मैरीकॉम की अध्यक्षता वाली समिति को डब्ल्यूएफआई की दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को देखना था।

विरोध कर रहे पहलवानों ने सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में आरोप लगाया है कि WFI प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने में अत्यधिक देरी हो रही है, जबकि उनके खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस (POCSO) समेत कई मामले दर्ज किए गए हैं।

दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस को जारी किया नोटिस
पहलवानों ने दिल्ली पुलिस से एफआईआर (प्राथमिकी) दर्ज करने की मांग की थी। दिल्ली पुलिस का कहना था कि उसे पहलवानों की ओर से 7 शिकायतें मिली हैं और उसकी जांच जारी है। इसके बाद दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने इस मामले में अब तक प्राथमिकी दर्ज करने में विफल रहने पर पुलिस को नोटिस जारी किया था।

दिल्ली महिला आयोग ने कहा कि उसे जानकारी मिली है कि पुलिस ने अब तक इस मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं की है। आयोग ने कहा, ‘शिकायतकर्ता ने आयोग को सूचित किया है कि एक नाबालिग समेत कई महिला पहलवानों ने आरोप लगाए हैं कि आरोपी व्यक्ति भारतीय कुश्ती महासंघ में अपने कार्यकाल के दौरान उनके खिलाफ यौन उत्पीड़न के अपराध में शामिल रहा है। शिकायतकर्ता ने आयोग को यह भी बताया है कि इस संबंध में 21 अप्रैल को कनॉट प्लेस पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज कराई गई थी।’

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button